Daily Indian History G.K. Questions 03/04/2019

Daily Indian History G.K. Questions 03/04/2019

Download click  Here

 

Que.01     श्वेताम्बर किसके नेतृत्व में विकसित हुआ?

  1. स्थलबाहु
  2. भद्रबाहु
  3. ऋषभदेव
  4. महावीर स्वामी

Answer :– 1.    स्थलबाहु

Notes :–  जैन धर्म दो पंथों में बंट गया था:

  1. शेताम्बर:- जो श्वेत वस्त्र धारण करते थे। यह स्थलबाहु के नेतृत्व में विकसित हुआ।
  2. दिगंबर :- जो वस्त्रहीन रहते थे और ये भद्रबाहु के नेतृत्व में विकसित हुआ।

*********************************************************************************

Que. 02    दक्षिण भारत में जैन धर्म किसके नेतृत्व में फैला?

  1. स्थलबाहु
  2. भद्रबाहु
  3. अशोक
  4. चंद्रगुप्त मौर्य

Answer :–  2.    भद्रबाहु

Notes :–    दक्षिण भारत में जैन धर्म भद्रबाहु के नेतृत्व में फैला। भद्रबाहु ने ही चंद्रगुप्त मौर्य को जैन धर्म की दीक्षा दी थी।

*********************************************************************************

Que. 03    कर्नाटक में जैन धर्म का प्रचार किसने कराया?

  1. चंद्रगुप्त मौर्य
  2. बिम्बिसार
  3. बिंदुसार
  4. अशोक

Answer :– 1.    चंद्रगुप्त मौर्य

Notes :–     कर्नाटक में जैन धर्म का प्रचार चंद्रगुप्त मौर्य ने क़िया। उसने जैन मुनि भद्रबाहु से दीक्षा ली और अपना अंतिम समय श्रवणबेलगोला में बिताया।

*********************************************************************************

Que. 04     अशोक का पौत्र कौन था जिसने जैन धर्म स्वीकार किया?

  1. सम्प्रति
  2. कुनाल
  3. दसरथ
  4.  सलिशुक

Answer :–  1.   सम्प्रति 

Notes :–    अशोक बौद्ध धर्म का अनुयायी था। लेकिन अशोक के पौत्र सम्प्रति ने जैन धर्म स्वीकार किया।

*********************************************************************************

Que. 05   महावीर स्वामी ने जैन धर्म के पांच महाव्रतों में कौन सा महाव्रत जोड़ा?

  1. अहिंसा
  2. अस्तेय
  3. अपरिग्रह
  4. ब्रह्मचर्य

      

  Answer :–  4.    ब्रह्मचर्य

        

Notes :–  जैन धर्म में 5 महाव्रत हैं:-

1.अहिंसा (हिंसा न करना)

2.सत्य

3.अस्तेय (चोरी न करना)

4.ब्रह्मचर्य                    

5.अपरिग्रह  (धन का संग्रह न करना)

इसमें ब्रह्मचर्य महावीर स्वामी द्वारा जोड़ा गया।

*********************************************************************************

Que. 06   बौद्ध धर्म और जैन धर्म में क्या समानता है?

  1. दोनों ने जाति प्रथा का विरोध किया।
  2. दोनों ने पुनर्जन्म का सिद्धांत माना।
  3. दोनों ने अहिंसा और सत्य का प्रचार किया।
  4. उपरोक्त सभी

Answer :– 4.    उपरोक्त सभी

Notes :–   बौद्ध और जैन धर्म में निम्नलिखित समानतायें हैं:-

1.दोनों ने जाति प्रथा का विरोध किया।

2.दोनों ने पुनर्जन्म का सिद्धांत माना।

3.दोनों धर्मों ने सत्य का प्रचार किया।

4.दोनों धर्मों ने अहिंसा का प्रचार किया।

*********************************************************************************

Que. 07   हर्षचरित की रचना किसने की?

  1. बाणभट्ट
  2. ह्वेनसांग
  3. हर्षवर्धन
  4. राज्यश्री

Answer :– 1.    बाणभट्ट

Notes :—    बाणभट्ट हर्षवर्धन के राजकवि थे। उन्होंने कादम्बरी नामक नाटक की रचना की। उन्होंने हर्ष के जीवन पर आधारित हर्षचरित की भी रचना की।

*********************************************************************************

Que. 08    पुष्यभूति वंश का संस्थापक कौन था?

  1. पुष्यभूति.
  2. हर्षवर्धन
  3. प्रभाकरवर्धन
  4. ग्रहवर्मन

Answer :– 1.    पुष्यभूति

Notes :–     बाणभट्ट के अनुसार , पुष्यभूति वंश की स्थापना पुष्यभूति ने की। इसे वर्धन वंश भी कहते हैं।       

*********************************************************************************

Que. 09     हर्षवर्धन का बहनोई कौन था?

  1. ग्रहवर्मन
  2. प्रभाकरवर्धन
  3. बाणभट्ट
  4. देवगुप्त

Answer :–  1.   ग्रहवर्मन

Notes :–    हर्षवर्धन के बहनोई का नाम ग्रहवर्मन और बहिन का नाम राज्यश्री था। ग्रहवर्मन की हत्या गौड़ के राजा शशांक ने की।

*********************************************************************************

Que. 10   हर्षवर्धन के जीजा ग्रहवर्मन को किसने मारा?

  1. गौड़ का राजा शशांक
  2.  कीर्तिगुप्त
  3. मिहिरकुल
  4. चंद्रगुप्त मौर्य

Answer :—1.  गौड़ का राजा शशांक

Notes :—    हर्षवर्धन के जीजा ग्रहवर्मन को गौड़ के राजा शशांक ने मारा। हर्ष की बहिन राज्यश्री वन में आत्मदाह करने जा रही थीं। हर्ष ने उन्हें खोज निकाला तथा राज्य प्राप्त करने के बाद गौड़ के राजा शशांक को पराजित किया।          

          *********************************************************************************

                      

Leave a Comment